ढीले स्तनों को सही आकार कैसे दिया जा सकता है?

सभी महिलायें उम्रभर अपनी ब्रेस्ट एकदम सही आकार में देखना चाहती हैं। लेकिन दुःख की बात तो यही होती है कि ऐसा कई मामलों में नहीं हो पाता। स्तनों का लटकना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो कि उम्र के साथ साथ बढ़ती जाती है जहां स्तन अपनी लचीलता खो देते हैं। हालाँकि महिलाओं में स्तनों का लटकना 40 की उम्र के आसपास देखा जाता है। लेकिन ये स्थिति पहले भी देखने को मिल सकती है। उम्र के अलावा, ब्रेस्ट के लटकने के अन्य कारण भी हैं जैसे स्तनपान, गर्ब्वस्था, रजोनिवृत्ति, तेज़ी से वजन घटना या बढ़ना, अधिक दम लगाने वाले व्यायाम, पोषण की कमी और बेकार ब्रा पहनना आदि।

स्तन सही आकार करने के कुछ तरीके है:

जिन महिलाओं के स्तन लटके हुए होते हैं उन्हें रोज़ाना व्यायाम करने की आदत डालनी चाहिए। ऐसे व्यायाम जो आपके स्तनों के उत्तकों को पर असर डालें और छाती के आसपास की मांसपेशियों में स्थिरता लाने में मदद करे।

कुछ व्यायाम प्रभावी तरीके से लटके हुए ब्रेस्ट को उठाते हैं और उनमे स्थिरता लाते हैं। चेस्ट प्रेसेस और पूल्स , आर्म रेसेस, राउंड अबाउट पुश अप्स, और डंबल फलयाइस व्यायाम ब्रेस्ट के लिए बने हैं। इसके साथ ही कुछ अन्य व्यायाम भी हैं जिनकी मदद से आप अपने लटके हुए स्तनों में स्थिरता ला सकते हैं। ध्यान रहे व्यायाम को करने के लिए हमेश ब्रेस्ट को सहारा देने वाली ब्रा पहने या स्पोर्ट्स ब्रा पहने।

जैतून के तेल से मालिश:

ब्रेस्ट को जैतून के तेल से मसाज करने से इनमे स्थिरता लाने में मदद मिलती है। जैतून का तेल एंटीऑक्सीडेंट और फैटी एसिड से समृद्ध होता है जो फ्री रेडिकल्स से होने वाली हानि से बचाता है और ब्रेस्ट को लटकने नहीं देता। इसके साथ ही ये त्वचा को निखारता भी है।

जैतून के तेल का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. सबसे पहले जैतून के तेल को अपने हाथ में लें और अब इस तेल को दोनों हाथों में लेकर रगड़ें।
  2. फिर तेल के हाथों को छाती पर लगाएं।
  3. लगाने के बाद 15 मिनट तक मसाज करें जिससे रक्त का प्रवाह बढे और कोशिकाओं का भी इलाज हो।
  4. इस उपाय को हफ्ते में चार से पांच बार ज़रूर दोहराएं।
  5. आप जैतून के तेल के अलावा बादाम, ऑर्गन, एवोकाडो या जोजोबा के तेल से भी ब्रेस्ट पर मसाज कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top