सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर है?

सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर है?  – इस सवाल का जवाब बहुत कम लोगो को ही पता हैं लेकिन हर एक व्यक्ति जिसके पास bank account हैं उन सभी को पता होना चाहिए की current account क्या होता है? और saving account क्या होता है? और दोनों में क्या अंतर है? अगर आप इस सवाल जा जवाब जानना चाहते है तो आप बिलकुल सही जगह है.

हम यहाँ पर bank account details और उनके benefits के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल करेंगे और जानेंगे की अगर आप bank account open करने जाते है. तो आपको कौन से तरह का account open करना चाहिए. ये सवाल बहुत जरुरी है अगर आप online bank transfer करते है, या online purchase करते है. तो आपके लिए saving और checking bank account कौन बेहतर है.

अगर आप नहीं जानते है तो मैं आपको बता दू Current account का Hindi meaning होता है चालू खाता और Saving account को बचत खाता कहा जाता है. इन दोनों में क्या अंतर होता है और आपको कौन सा अकाउंट open करना चाहिए इसके बारे में जानने से पहले जान लेते है की India की कितने तरह के bank accounts होते है.

सेविंग अकाउंट (Saving Account) क्या है?

सेविंग अकाउंट जिसे हम हिंदी में बचत खाता कहते है. यह एक ऐसा बैंक अकाउंट होता है जहा पर कोई व्यक्ति अपने कमाई से बचाये गए पैसो को जमा करता है. इस तरह का खाता एक आम व्यक्ति के जवाब में बहुत जरुरी और महत्वपूर्ण होता है क्योकि एक आम व्यक्ति थोड़े-थोड़े पैसे बचाकर बैंक में जमा करता है ताकि वह भविष्य को बेहतर बना सके.

अगर कोई व्यक्ति सेविंग अकाउंट खोलता है तो उसके जमा किये गए पैसे पर बैंक सालाना इंटरेस्ट देता है. यह इंटरेस्ट 3% से लेकर 6% तक हो सकता है. लेकिन इसका इसका इस्तेमाल केवल पर्सनल काम के लिए होता है और यह एक बिज़नेस वाले व्यक्ति के लिए सूटेबल अकाउंट नहीं होता है. क्योकि सेविंग अकाउंट पर transaction का लिमिट होता है.

करंट अकाउंट (Saving Account) क्या है?

करंट अकाउंट जिसे हम चालू खाता भी कहते है यह एक ongoing अकाउंट होता है. अगर किसी भी व्यक्ति को रोजाना ट्रांसक्शन करना हो पैसे का लेन-देन करना हो तो वह करंट अकाउंट खोलता है. क्योकि इसका इस्तेमाल बिज़नेस और व्यसाय के लिए होता है और इसमें कोई लिमिट नहीं होता है की आप एक दिन में कितने पैसे निकाल रहे या जमा कर रहे है.

करंट अकाउंट को चलने के लिए बैंक से कोई इंटरेस्ट नहीं मिलता है उल्टा अकाउंट को मैनेज करने के लिए बैंक को पैसे देने होते है. ऐसे में अगर आप बिज़नेस करते है तो आपको इस तरह के अकाउंट की जरुरत होगी.

सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है?

यह सवाल हर दिन किसी ना किसी व्यक्ति के मन में आता है जो की bank account open करने जाता है की Saving vs current account क्या होते है? और आप सभी जब भी individual account open करने जाते है तो आम तौर पर account saving ही होता है.

अगर आप ATM पर debit card के माध्यम से पैसे निकालने जाते है तो हमेशा ये सवाल पुछा जाता है की account किस तरह का saving है या current अकाउंट है और जब आप इसमें से आप कोई सेलेक्ट करते है तभी आप आगे transaction कर सकते है.

इन दोनों तरह के अकाउंट लगभग सभी banks ICICI, HDFC, SBI और बाकि सभी offer करते है लेकिन दोनों एकाउंट्स दोनों बैंक एकाउंट्स अलग-अलग तरह के लोगो के लिए होते है. saving account सभी के लिए होता है और कोई भी व्यक्ति यह अकाउंट ओपन कर सकता है लेकिन current account केवल businessman type के व्यक्ति ही ओपन कर सकते है. मैं यहाँ पर दोनों के बीच का अन्तर बताता हूँ ताकि आप और बेहतर समझ पाए.

Saving Accounts:

  • इस तरह के एकाउंट्स को बनाया गया ताकि लोग पैसे बचा सके.
  • इसमें अगर कोई व्यक्ति पैसे जमा करता है तो उसे bank द्वारा हर साल कुछ % interest दिया जाता है. उदाहरण के तौर पर अगर आप 100 रुपये अपने अकाउंट में रखते है और बैंक 4% इन्ट्रेस्ट देता है तो एक साल में ये 104 रुपये हो जायेंगे.
  • Saving account कोई एक एकेला व्यक्ति या join account दो व्यक्तियों के साथ मिलकर ओपन कर सकता है और इसमें आपको बैंक द्वारा दिए गए minimum amount को maintain करना होता है.

Current Accounts:

  • Current account केवल ऐसे व्यक्तियों को दिया जाता है जो की regular transiction karte है. खाशकर businessman जो की daily बहुत से transaction करते हैं.
  • जितने भी small firms, business, Realtors या कोई businessman होते है वो केवल current अकाउंट open करते है.
  • इस तरह के अकाउंट में किसी भी तरह का interest नहीं मिलता है. Bank कोई भी interest banks द्वारा नहीं दिया जाता है.
  • इसमें कोई translation limit नहीं होता हैं आप जितना चाहे उतना translation कर सकते है लेकिन आपको अकाउंट के लिए proof देना होता है की यह translation आप किस कारण से कर रहे है.

India में Bank कितने तरह के होते है?

India में 100 से ज्यादा government और private sector के banks हैं जहा पर individual या business account open किया जा सकता है. मैं यहाँ पर कुछ common bank account types के बारे में बताता जिसके बारे में हर एक आम इंसान को पता होना चाहिए ताकि जब वह अपना account open करने जाये तो इसका फायदा उठा सके.

1. Women Saving Accounts

लगभग सभी banks women के लिए special saving account offer करते है जिससे बहुत से benefits जुड़े होते है women के लिए और वह इसका फायदा उठा सकते है. India में women empowerment को बढ़ावा देने किये financially support करने के लिए banks ऐसे special program offer करते है. ऐसे एकाउंट्स के बारे में rural area में बहुत कम लोगो को जानकारी होता है और अगर आप इसके बारे में विस्तार से जानकारी चाहते है तो अपने बैंक में कांटेक्ट करे.

2. Student Saving Accounts

Students जो की किसी भी class में पढ़ते है वो सभी bank account open कर सकते है. हम सभी ने scholarship student bank account open किये है. ऐसा खता खोलने के लिए school का permission चाहिए तभी आप student saving account ओपन कर सकते है. इस अकाउंट को zero balance के साथ ओपन किया जा सकता हैं.

3. Kids Accounts

अगर कोई अपने बच्चे के लिए separate account open करना चाहते हैं तो आप bank के इस facility का फायदा उठा सकते है. ऐसे account बच्चे के future के पैसे बचने के लिए होते है. अगर आप भी अपने बच्चे के लिए कुछ पैसे बचाना चाहते है तो आप Kids bank account जरूर open करे.

4. Current Accounts

इस तरह के account business के लिए होते है या ऐसे व्यक्ति के लिए होते है जो बहुत ज़्यादा transaction करते हैं. Current account किसी आम व्यक्ति के लिए नहीं होते है और सभी banks के current account के लिए कुछ अपने terms & conditions होते है. अगर आप उस condition को satisfy करते है तो आपको current account open करा सकते है.

5. NRE Saving Accounts

अगर कोई व्यक्ति ऐसा है जो की India origin से है या Indian लेकिन किसी दूसरे देश में रहता है तो ऐसे में वह NRE saving account open कर सकते है. इसमें बहुत से international benefits मिलते है जैसे की money transfer, money conversion इत्यादि. इस अकाउंट के लिए कम से दो व्यक्ति का होना आवश्यक है तभी वह NRE के लिए applicable होंगे.

6. No-Frill Saving Accounts

आप सभी जानते है हर एक saving account का अपना एक criteria होता है की कम से कम 500, 1000 या 10000 रुपये आपको account में हमेशा रखने है. अगर आप ऐसा नहीं करते है तो banks इसके लिए charge लेते है. ऐसे में No-Frill एक ऐसा account जिसमे आपको कोई minimum amount रखने की जरुरत नहीं है.

7. Senior Citizen Savings Bank Account

जिनकी उम्र 60 साल या उससे ऊपर का होता है banks उनके लिए एक अलग तरह का saving accounts offer करते है. जिसमे कुछ ऐसे benefits होते है जो की senior citizen को मिलने चाहिए वो मिलते है. ऐसे अक्काउंट्स के retirement के बाद बहुत फयदे मिल सकते है.

अब हम अपने सवाल पर आते है की Saving account vs current account दोनों में क्या differences हैं और इनका एक आम आदमी के bank accounts पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है.

दोस्तों ये हैं Current account vs Saving account में क्या अंतर होता है और आप कौन सा अकाउंट कब ओपन कर सकते है. अगर आप एक आम इंसान है तो आपके लिए सेविंग अकाउंट सही रहेगा आपको इसमें interest भी मिलेगा लेकिन अगर आप businessman है और daily transaction करते है तो आप करंट अकाउंट ओपन कर सकते है. अगर आप का कोई सवाल या सुझाव है तो आप कमेंट में जरूर लिखे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top